22 October 2014 Choti Diwali Speech / Short Essay In Hindi Free Download

Advertisement
Narak Chaturdashi 07 Narak Chaturdashi 08 Narak Chaturdashi 09
इस रात दीए जलाने की प्रथा के संदर्भ में कई पौराणिक कथाएं और लोकमान्यताएं हैं। एक कथा के अनुसार आज के दिन ही भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी और दुराचारी दु्र्दांत असुर नरकासुर का वध किया था और सोलह हजार एक सौ कन्याओं को नरकासुर के बंदी गृह से मुक्त कर उन्हें सम्मान प्रदान किया था। इस उपलक्ष में दीयों की बारात सजाई जाती है।
इस दिन के व्रत और पूजा के संदर्भ में एक दूसरी कथा यह है कि रंति देव नामक एक पुण्यात्मा और धर्मात्मा राजा थे। उन्होंने अनजाने में भी कोई पाप नहीं किया था लेकिन जब मृत्यु का समय आया तो उनके समक्ष यमदूत आ खड़े हुए। यमदूत को सामने देख राजा अचंभित हुए और बोले मैंने तो कभी कोई पाप कर्म नहीं किया फिर आप लोग मुझे लेने क्यों आए हो क्योंकि आपके यहां आने का मतलब है कि मुझे नर्क जाना होगा। आप मुझ पर कृपा करें और बताएं कि मेरे किस अपराध के कारण मुझे नरक जाना पड़ रहा है।

Don’t miss to check:

Latest SMS, Wallpapers : Happy Diwali / Divali / Deepavali / Dhanteras / Bhai Dooj / Kali Puja / Bandi Chhor Divas 2014

 

 यह सुनकर यमदूत ने कहा कि हे राजन् एक बार आपके द्वार से एक बार एक ब्राह्मण भूखा लौट गया था,यह उसी पापकर्म का फल है। इसके बाद राजा ने यमदूत से एक वर्ष समय मांगा। तब यमदूतों ने राजा को एक वर्ष की मोहलत दे दी। राजा अपनी परेशानी लेकर ऋषियों के पास पहुंचे और उन्हें अपनी सारी कहानी सुनाकर उनसे इस पाप से मुक्ति का क्या उपाय पूछा।
तब ऋषि ने उन्हें बताया कि कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी का व्रत करें और ब्रह्मणों को भोजन करवा कर उनके प्रति हुए अपने अपराधों के लिए क्षमा याचना करें। राजा ने वैसा ही किया जैसा ऋषियों ने उन्हें बताया। इस प्रकार राजा पाप मुक्त हुए और उन्हें विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ। उस दिन से पाप और नर्क से मुक्ति हेतु भूलोक में कार्तिक चतुर्दशी के दिन का व्रत प्रचलित है।
इस दिन के महत्व के बारे में कहा जाता है कि इस दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर तेल लगाकर और पानी में चिरचिरी के पत्ते डालकर उससे स्नान करने करके विष्णु मंदिर और कृष्ण मंदिर में भगवान का दर्शन करना करना चाहिए। इससे पाप कटता है और रूप सौन्दर्य की प्राप्ति होती है।
कई घरों में इस दिन रात को घर का सबसे बुजुर्ग सदस्य एक दिया जला कर पूरे घर में घुमाता है और फिर उसे ले कर घर से बाहर कहीं दूर रख कर आता है। घर के अन्य सदस्य अंदर रहते हैं और इस दिए को नहीं देखते। यह दीया यम का दीया कहलाता है। माना जाता है कि पूरे घर में इसे घुमा कर बाहर ले जाने से सभी बुराइयां और कथित बुरी शक्तियां घर से बाहर चली जाती हैं। इस दिन अपने रूप-रंग को संवारने की भी मान्यता है। इसके लिए विशेष उबटन आदि का प्रयोग किया जाता है।

(Disclaimer : The information provided here is derived from various other websites. We do not endorse or support the same)

 

 

Related Stories:

  1. 24 October Diwali 2014 English SMS, Facebook Status, WhatsApp Messages Free Download
  2. Diwali | Deepavali English Quotes, Slogans, SMS, Messages 24 October 2014 Free Download
  3. Diwali Celebration on October 24, 2014 – SMS, Messages for WhatsApp, Facebook
  4. Diwali / Deepavali Quotes, SMS, Facebook Status, WhatsApp Messages 2014
  5. Diwali SMS, Diwali English Messages 24 October 2014
  6. Happy Diwali 2014 HD Images, Wallpapers For Whatsapp, Facebook, Twitter
  7. Happy Diwali 2014 HD Images, Wallpapers For Whatsapp, Facebook
  8. Diwali 2014 Facebook Photos, WhatsApp Images, Wallpapers, Pictures
  9. Happy Diwali 24 October 2014 Images, Greetings, Wallpapers Free Download
  10. Happy Diwali 2014 Wallpapers, Images, Wishes For Pinterest, Instagram
Advertisement
The following two tabs change content below.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*

BMS.co.in is aimed at revolutionising Bachelors in Management Studies education, also known as BMS for students appearing for BMS exams across all states of India. We provide free study material, 100s of tutorials with worked examples, past papers, tips, tricks for BMS exams, we are creating a digital learning library.

Disclaimer: We are not affiliated with any university or government body in anyway.

©2020 BMS - Bachelor of Management Studies Community 

A Management Paradise Venture

Ask Us On WhatsApp
or

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

or

Create Account